Ticker

6/recent/ticker-posts

मुसिबत धीरज की परीक्षा हैं |

Musibat

 प्रस्तावना : 

आज जीवन में जो भी व्यक्ति बड़ा हुआ हैं उसके बड़े होने में बहुत मेहनत याह संघर्ष छिपा हुआ हैं | किसी भी चीज याह मुकाम पर पहुंचने के लिए सिर्फ परिश्रम की जरूरत ही नहीं बल्कि धीरज  की सर्वाधिक जरुरत होती हैं | इंसान बस मेहनत करे लकिन उसे यह पता न हो की उसकी मेहनत सही दिशा में है यह नहीं | 

दुनिया में ऐसा कोइ काम नहीं जिसे करने में मुसीबत न आती हो |  लेकिन कामियाबी का सबसे बड़ा कारन है धीरज हर चीज को करने और समझने में एक जरुरी समय लगता है समय के साथ - साथ सारे घाव भर जाते है | मुसीबत के समय इंसान अपना धीरज और होश पूरी तरह से को देता है जिसके कारन वह कमजोर पद जाता है बाकि के लोग इसी कमजोरी का फायदा लेने की कोशिस करते है | 

विस्तार :

मुसीबत कितनी भी बड़ी हो शांत मन और सही दिशा में सोच विचार कर उसका समाधान निकला जा सकता है | जब कोइ राह नहीं दिखिई देती तो शांत होकर विचारों को नियंत्रित कर शुरुआत से समस्या के बारे में सोचना चाहिए हर समस्या का समाधान समस्या में ही छुपा  होता है बस जरुरत होती है की हम सही दिशा में और धीरज के साथ अपना काम करे |

  

Post a Comment

0 Comments